Friday, 5 October 2012

ऐ आवारा ख्यालों मेरे ज़हन में कुछ देर और बैठो,
तुम्हारे जाते ही सब खाली खाली सा लगता है

No comments:

Post a Comment