Sunday, 11 December 2016

...

एक सुबह का टुकड़ा तुझको भी बाँट दूंगी। 
मैं सोचती हूँ, 
रात ही तो है,
ऐसे ही ख़त्म होगी। 

No comments:

Post a Comment