Sunday, 11 December 2016

हलाल

तुझसे गुफ़्तगू में कुछ हलाल और कुछ हराम है,
कहतें हैं वो 
तेरी इबादत का तरीका 
क्यों किताबों से सीखूं में ?

No comments:

Post a Comment