Sunday, 11 December 2016

इश्क़

एक ज़माना था,
इश्क़ पर लिखा करते थे
और फिर एक दिन,
इश्क़ हो गया..
अब लिखते नहीं,
बस इश्क़ किया करते हैं

No comments:

Post a Comment